Inhuman behavior of doctors at BHU

The hospital at BHU is the biggest ray of hope for millions of people from Purvanchal, Bihar, Madhya Pradesh, Chattisgarh, Nepal and many other places in India. Patients from all of these places come to BHU to get medical treatment because it is the biggest hospital of this region but the management, staffs and doctors are so corrupt and cruel that they have become demons, no humanity at all. The people from Varanasi themselves have the feeling that BHU hospital has the best doctors and other medical facilities but if you do not know people personally there then don’t go. If you know people then things are easy otherwise its a serious challenge to get anything done at that hospital.

Everything is super difficult starting from registration till getting treatment, buying medicines or even getting subsidy which is the right of the patients. Lets start from the beginning, the first process is getting registration which mean you will have to be in a queue as there is no process of doing it online and the queue is so big that you might have to spend an hour or two just standing in the line. Second step is seeing the doctor which means again huge queue and corrupt system. If you know someone at the OPD then doesn’t matter how late you show up or even if you have registration or not, you will go and see the doctor directly but the people who showed up early, were in the queue waiting for their turn will have to wait.

At BHU OPD usually there is one senior doctor and may be 5-6 junior ones. Junior doctors are the ones who see the patients first and if they feel like needing help of the senior doctor only then they discuss the case with the senior one but again if you know somebody then senior doctor will see you first which really hurt others. If the doctor suggests some kind of blood test or CTscan or MRI then again problem. All the facilities are available at the hospital for cheap cost but the queue is so big that in case of an emergency it is impossible to wait for your turn. The appointment for CTscan or MRI could be even a week or two. In this case most of the people pay a higher price and get the test done at some private center where the doctors get commission.

If there is any emergency and the patient has to be admitted in the hospital then they don’t have beds available. Actually they always have beds available but only if you know someone working at BHU. It has happened with so many people whom I know personally that they were denied the admission first but when they approached someone powerful then immediately the patient was admitted otherwise the patient has to lay down on the ground in unhygienic condition while the treatment is going on. Forget about getting a room, it is a serious challenge to even find a stretcher. You will always see patient’s attendants running around here and there looking for a vacant stretcher. And when the patient is admitted then the real drama of commission business starts and I know it very well that it all happens with involvement of BHU staffs.

Actually different people who have medicine business outside BHU premises start approaching the attendants of the patients asking them to come to there shop and buy medicines from them. In exchange of it they promise discount which is nothing other than a scam because hospital pharmacy is a lot cheaper than any discounted rate offered by these outside shops. There is already a pharmacy inside the hospital premises where they provide subsidized medicines. In a lot of cases doctors themselves ask the patients to buy the medicine from some shop outside the hospital because they get huge commission. My personal most recent experience of such case was only about an year ago when a lady in my neighborhood went to the BHU to get treatment for her breast cancer. 

Doctors did biopsy and confirmed that she had 3rd stage of breast cancer and she needed urgent treatment. They recommended her chemotherapy first because her tumor was very big. The doctor herself asked the patient to go to a particular shop outside the BHU campus and bring the medicines from there only. But there was already an AMRIT store at the hospital which is a program started by Modi government in the year 2015 which sells cancer and heart related diseases medicine and implants for 50 to 90% cheaper than the market rate. Statistics indicate that Indians diagnosed with cancer are 700,000 every year. About 2.8 million people have cancer at any point of time and half a million die of the disease each year. The annual figure of women being diagnosed with breast cancer in India is 145,000, according to the World Health Organisation.

A significant number of patients (nearly over 50 per cent) stop visiting hospitals after two or three cycles of chemotherapy due to unaffordable costs. Hence, the aim to reduce the expenditure incurred by patients on treatment of cancer and heart diseases, has launched the Affordable Medicines and Reliable Implants for Treatment (AMRIT) program. The patient went to the shop recommended by the doctor and asked the cost of the medicine. The shop owner said it would cost them around Rs. 17-18,000 which sounded very expensive because I used to pay around 5000 at TATA memorial hospital, Mumbai for my mother’s breast cancer treatment so I suggested the patient to inquire about the cost at AMRIT store inside the hospital.

The patient went there and was shocked to see that the same medicine’s cost at AMRIT store was around Rs. 4000. The patient came from a very poor family back ground and I was helping them to get some financial aid from the government but it takes some time and he she needed urgent help. So she decided to go for the treatment with whatever savings she had. They bought the medicines from AMRIT store but before starting the therapy they went to the doctor again to show her all the medicines because they could not believe that there would be so big difference of cost between the shop outside and AMRIT store at the hospital. The doctor looked at the medicines and said that everything was all right but suddenly asked for the receipt of the medicine.

They showed the receipt to the doctor and as soon as she saw the receipt of AMRIT she got super angry and started shouting at the patient. She was upset about why did they buy the medicine from AMRIT store when she had asked them to buy it from somewhere else. They explained the reason that it was almost 4 times cheaper at the AMRIT and they come from a very poor background that it was impossible for them to even spend that Rs. 4000 at AMRIT store, forget about paying 17,000 at some other store. But in any case why would I pay 17,000 for the same thing which costs me 4000?. But that cruel inhuman doctor did not want to hear anything. She threw the medicines away and told the patient that if she can not bring the medicine from that particular shop, where she wanted them to buy it from, then she can go anywhere she wants or start the treatment by themselves.

They were crying and requesting the doctor to start the treatment as they could not afford the medicine from outside but no result. It was not only my patient but several others also had the same problem. They were all complaining about the same thing. Now we had no idea about what to do because she needed urgent treatment. There was another cancer hospital in Varanasi run by Indian Railways where we did not really want to go at first because BHU had better facilities but there was no other way. Finally we decided to go to the Railway hospital, explained them all of the problems and the doctors there were so nice that they accepted the patient. They also agreed to use the medicines brought from AMRIT store but they were also shocked to hear the story.

Somehow her treatment started at the Railway hospital. Every time she needed a chemo we would buy it from AMRIT store at BHU but get the therapy at the Railway hospital. But sometimes you are too unlucky or maybe unlucky for a while with better future waiting for you. Only after three Chemos the Railway hospital was closed temporarily because TATA Memorial center from Mumbai had taken over it and they needed sometime to develop the hospital infrastructure and other facilities as per their own standards. TATA hospitals are very good, they have proper hospital management system, good doctors and subsidized medicines. On one hand we were sad that my patient’s treatment was going to be stopped but on the other hand it was also a happy news that future would be better.

All of the cases of Railway hospital were transferred to BHU and since it was done on the government level we did not face the same problem again. Rest of the Chemos were done at BHU and they also accepted medicines bought from AMRIT store. Now just imagine the cruelty of that doctor who had refused to treat my patient only because she could not afford to buy the medicines from the shop preferred by the doctor. And the reason why they send the patients to certain shops only because they get commission. Patients life, suffering, pain…. nothing matters to them. The only thing that matters to them is money. Being a local of Varanasi at least I could even think of other options but just think about the situation of those poor people who come from far away places……Just impossible to even imagine their situation.

Anyways, the reason why I am writing this post is because the media reported today about a similar case that happened at BHU. The report said that a patient from Aurangabad, Bihar who needed cardiac surgery was admitted at BHU in May 2017. Since they came from a very poor family they had applied for government help and the government had already sanctioned Rs. 1,75,000 for their treatment. Usually this kind of money is directly transferred to the hospital or the patient can get treatment, present the bills issued by authorized government pharmacy center and get the refund. The patient showed the documents stating that the government had approved 1,75,000 for the patient but again the doctor denied the treatment. He started making all the fake stories and asked the patient’s family to deposit Rs. 2,50,000 at a particular shop outside the hospital.

The patient’s family did not have that much of money so they mortgaged their agricultural land and somehow arranged money and gave it to the shop owner. The operation cost at BHU is almost nothing, I don’t know the present rate but I still remember that I had deposited only Rs. 500 for my cousin’s heart valve surgery around 10 years ago. All the major expenses are medicine cost. Finally the surgery happened and the patient was discharged from the hospital. They went to that medicine shop asking for the receipt of the medicines so that they could get a refund from the government but they gave them receipt of only Rs. 1,80,000 whereas they had given Rs 2,50,000. The family lodged a complaint against it to the Medical Superintendent of the hospital.

The MS called the shop owner and asked him to return rest of the 70,000 which he agreed but later denied but never returned that 70,000. Now another problem is that the patient’s family can get refund only if they can present the receipt issued by AMRIT stores because all the medicines at AMRIT stores are already highly subsidized but the doctor had sent the patients somewhere else and it was again done only because the doctor must have been getting commission by sending patients to that particular pharmacy. When I hear such stories, I don’t know what to say, the only thing I can say is that such people are monsters in human face. Just imagine the situation of that patient’s family.

They had to go to the government because they did not have money, they had to mortgage their land and now they can’t even get the refund from the government only because that evil doctor’s greed, their whole life is destroyed. And I  know it very well but it is not the only case, it happens everyday with several people but we only hear about a very few stories. I am not saying that all of the doctors are bad at BHU or it is happening only at BHU but its a fact which can’t be ignored. Its happening everywhere in India, everyday with so many people. I hope that with more and more transparency and online system this problem will solve in future but it seems like it is not going to be solved some time soon, we will have to suffer with this system in future as well but wish to see it completely changed before I die. I would like to thank to Mr. Modi for starting such project, I know how hard it is for him to solve this problem of corruption but I have a hope. At least he started something and we all know he is doing his best to fight corruption, Thanks for being what he is! Peace.

New Paper article

Quality medicines at affordable prices

सितम्बर २१०६ में मैंने एक लेख था कुंदन के किडनी ट्रांसप्लांट के बारे में जिसमे इस बात का भी जिक्र किया था की कैसे ट्रांसप्लांट होने के बाद उसका दवा का खर्च लगभग 12,000 प्रति महीना है जो की कुंदन जैसे विद्यार्थी जिसका परिवार गरीबी रेखा से नीचे वाले वर्ग से आता है उसके लिए लगभग लगभग नामुमकिन सा था. शुरू के कुछ महीनो तक तो किसी तरह उसके दवा के खर्च का व्यवस्था हो गया लेकिन एक समय के बाद नहीं हो पा रहा था. कुंदन भी अपने परिवार पर दबाव नहीं बनाना चाहता था क्योकि उसको अच्छी तरह से मालूम था की पिता जी के पास भी अब कुछ बचा नहीं है. घर पर जो थोड़ा बहुत खेती की जमीन बिक गयी इलाज के दौरान और उसके ऊपर से दूसरे लोगों से कर्ज लेना पड़ा अलग. इस वजह से कुंदन अपने दवा में कटौती करने लगा, दो दवा बहुत ज्यादा जरूरी थी उसकी को खरीदता था बाकी नहीं लेता था जो की उसके लिए बहुत बड़ी परेशानी को दावत देने के सामान था.

उसको डॉक्टर शुरू में हर महीने हॉस्पिटल बुलाये थे जो की बाद में हर तीन महीने में एक बार कर दिया गया लेकिन पिछले 6 महीने से वो दिल्ली भी नहीं गया था क्योकि दिल्ली जाने तक का पैसा नहीं था. इस बीच वो इतना परेशान हो गया था की मेरे पास कई बार आया और बोला की कोई पार्ट टाइम नौकरी दिलवा दीजिये। कुंदन बहुत मेधावी छात्र है और पढ़ना चाहता है लेकिन पढाई और काम दोनों एक साथ नहीं कर सकता। अगर पढ़ाई पर ध्यान लगाएगा तो काम नहीं कर पायेगा और अगर काम नहीं किया तो पैसे नहीं आएंगे दवा खरीदने के लिए. और अगर काम करता है तो पढ़ाई नहीं कर सकता। दूसरी बहुत बड़ी दिक्कत ये की शारीरिक श्रम वाला काम नहीं कर सकता क्योकि किडनी ट्रांसप्लांट होने के बाद डॉक्टर मना कर चुके है. इसलिए हमसे बोला की अगर रात का भी 4 -5 घंटे का काम मिल जाए तो कर लेगा ताकि दिन में क्लास जा सके. मुझे कुछ समझ में ना रहा था की कहाँ भेजे उसे, कैसे उसका मदद कर सकें।

इसी बीच हमको एक ख्याल आया भारत सरकार की एक नयी स्कीम के बारे में जिसका नाम है प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र। इसको नरेंद्र मोदी जी ने शुरू करवाया था और कई बार उनको इस बारे में बात करते सुने थे. बस केवल इतना पता था की यहाँ गंभीर रोगों में लगने वाली दवाएं जो की बहुत महँगी होती है सस्ते दाम पर मिलती है लेकिन कभी किसी जन औषधि केंद्र पर व्यक्तिगत रूप न ही गए थे न ही किसी को जानते थे जो की वहां से दवा खरीदता हो. खैर, हम कुंदन को बोले नौकरी के सोचते हैं लेकिन इधर बीच एक बार जन औषधि केंद्र पर जा के अपने दवा का दाम पता करो. शुरू में कुंदन थोड़ा असहज लगा, बोला की वो जहाँ से दवा लेता है वो लोग भी उसको छूट देते हैं और उसके बाद उसकी दवा 12,000 की पड़ती है, बहुत होगा तो जन औषधि केन्द्र् से उसको 2,000 और सस्ती दवा मिल जाएगी, फिर भी वो 10,000 रुपया महीने का दवा नहीं खरीद सकता।

शुरू में लगभग एक हफ्ते नहीं गया वो लेकिन जब गया तो उसको विश्वास नहीं हुआ की जो दवा वो 3,000  खरीदता था वो उसको जन औषधि केंद्र में मात्र 142 (मात्र एक सौ बयालीस ) रूपये में मिली। उसको विश्वास नहीं हो रहा था तो वो तुरंत अपने डॉक्टर को गंगा राम हॉस्पिटल दिल्ली फ़ोन किया और उनको दवा का नाम और सब कुछ बताया और वो भी बोले के बिंदास हो कर खरीदो, कोई फर्क नहीं है. कुंदन वो दवा खरीदा और सीधा मेरे पास आया बिल ले के. इतना ज्यादा उत्साहित और खुश लग रहा था की बयां नहीं किया जा सकता, हमको बिल दिखाया और बोला की चूँकि उसका काफी बचत हुआ है इसलिए अब वो अगले एक सप्ताह में ही दिल्ली भी जाएगा डॉक्टर से मिलने क्योकि पिछले 6 महीने से नहीं जा पाया था. लेकिन एक दिक़्क़त ये हुई की कुंदन को उसकी सारी दवा नहीं मिल पायी।

कुंदन की दवा का बिल

दुकानदार बोला की चूँकि बनारस में अबतक किडनी ट्रांसप्लांट की सुविधा किसी हॉस्पिटल में नहीं है इसलिए यहाँ कोई ट्रांसप्लांट से सम्बंधित दवा नहीं मंगाता। शुरू में वो लोग मंगवाते थे लेकिन डिमांड नहीं के बराबर होने के कारण उनको दवा वापस करना पड जा रहा था. इसलिए बाकी की दवाएं उसको या तो लखनऊ या दिल्ली में मिलेंगी। वो दवा की पूरी लिस्ट देखा और बोला की ये सारी दवाएं लगभग 3 से 4,000 रूपये महीने में मिल जाएंगी जो की बहुत बड़ी बचत होगी। लेकिन हार्ट, कैंसर और बाकी असाध्य रोगों की सारी महंगी दवाएं उसके दूकान पर बाजार से 3 से 4 गुना काम दाम में उपलब्ध थी. जो दवाएं जन औषधि केंद्र से सरकार उपलब्ध करवा रही है उसमे और मार्किट में बिकने वाली दवाओं में केवल इतना अंतर है की जन औषधि केंद्र वाली दवाएं जेनेरिक दवाएं है. दवा वही होती है बस कंपनी का नाम अलग होगा और दूसरा कोई अंतर नहीं।

आमिर खान एक शो आता था स्टार टीवी पर जिसका नाम था सत्य मेव जयते, याद है? उसका एक एपिसोड इसी विषय पर था की कैसे डॉक्टरों और दवा बनाने वाली कंपनियों की मिलीभगत से महँगी दवा बेचने के खेल चल रहा है. बड़ी बड़ी कम्पनिया डॉक्टरों को मोटा कमीशन देकर अपने कंपनी की दवा लिखवाते है जिसका भुगतान असल में ग्राहक ही करता है. उस एपिसोड के बाद याद होगा आप को की कितना बवाल हुआ था, डॉक्टर लोग कोर्ट तक चले गए थे. खैर, ये खेल किसी से छुपा नहीं है, सब लोग जानते हैं इसके बारे में. लेकिन अब इसका इलाज प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र के जरिये संभव हुआ है. मेरा ये लेख लिखने के पीछे केवल एक ही मकसद था की जो लोग पैसे की तंगी के कारण इलाज वहां नहीं कर सकते वो इस सुविधा का बिना हिचक इस्तेमाल करें। जेनेरिक दवाओं के बारे में अधिक जानकारी के लिए सत्य मेव जयते का एपिसोड शेयर कर रहे हैं, पूरा देखिये और तस्सली मिले तो इस सुविधा का लाभ उठाइये। ये सुविधा शुरू कराने के लिए मोदी जी का ह्रदय से धन्यवाद, ये गरीबों की बहुत मदद करेगी।

 

Hall of Fame certificate by Tripadvisor

It has been 5 years since I got Groovy Tours registered on Tripadvisor which has been giving most of my business. Depending on the rating given by the travelers and their reviews every year certain businesses are given Certificate of Excellence but if someone gets Certificate of Excellence continuously for five years then they become eligible for Hall of Fame certificate. I have been getting certificate of excellence ever since I registered my business on Tripadvisor in the year 2014 and since I have been getting certificate of excellence continuously every year, this year I have been given Hall of Fame certificate which is the most satisfying thing for me as the manager of the business. What could be the better and more satisfying feeling that your services being appreciated by your customers. Thanks to all the people who gave me opportunity to serve them.

Here it is my Hall of Fame certificate

Boat ride in Varanasi

Ganga Cruise Alaknanda

Tourism is life line of Varanasi and biggest attraction for tourists has always been Kashi Vishwanath Temple and the river Ganga. I can’t even think of any tourist of pilgrim coming to Varanasi without having desire to at least visit Kashi Vishwanath Temple and have at least one boat ride on the river. As per the data of UP Tourism board nearly 7 million tourists had visited Varanasi in the 2017 and the number is growing every year. But because of bad infrastructure Varanasi was not able to impress tourists and pilgrims as much as it should have done. The city was a complete mess until 2014. Luckily Varanasi elected Mr. Narendra Modi as the member of parliament from Varanasi and he is also the current Prime Minister of India now.

Ganga Cruise Alaknanda

During his tenure of past 4 years this city has changed a lot. They worked a lot for cleanliness under Swatch Bharat Mission which had huge positive impact on the city. Mr. Modi always talks about tourism hence he personally took interest in developing tourism facilities in Varanasi. And the most recent change is Ganga Cruise. We had small boats (hand rowing and engine run both) which can handle 4-6 people. Hand rowing boats are fine but the there was a huge increase in number of engine boats which had basically ruined the whole experience. It is very loud and since it is run on a diesel engine it creates huge pollution. People want to have peace when they go on a boat but these boats were very bad.

Ganga Cruise Alaknanda

I have had so many guests who were disappointed with the boats. If fact they were willing to pay extra to have a bigger, safer and comfortable boat but it was not possible at all because we did not have any other option. But finally we have Ganga cruise as well which will leave positive impact on tourism in Varanasi and will definitely attract more tourists. The government has started this new cruise named Alaknanda and I have been told that it is a double-decker cruise ship which will be able to carry more than 100 passengers at any given time. The liner is equipped with 60 luxurious sofas to make your voyage incredibly comfortable and have eco-friendly bio-toilets. It also has an extensively equipped kitchen which will serve both veg and non-veg dishes to please your taste buds.

Ganga Cruise Alaknanda

The lower deck of the cruise is fully air-conditioned and has a small stage which boosts all the needed multimedia functionality. To keep you connected to the modern world it also offers free on-board WiFi. The upper deck is a restaurant and will let you enjoy the view while hogging on your favorite food! The cruise is even equipped with numerous safety features and an on-board lifeguard for emergencies. When Cabinet Minister Mr. Nitin Gadhkari proposed the idea of Motorways, many People mocked him….but look at it….it is indeed happening…..it is the future.

 

 

Kidney Transplant at Ganga Ram Hospital

ये लेख मेरे छोटे भाई सामान कुंदन के किडनी ट्रांसप्लांट से सम्बंधित मेरे व्यक्तिगत अनुभव से प्रेरित है. कुंदन कुशीनगर का रहने वाला है लेकिन बनारस में रहा कर बीएचयू में पढाई कर रहा था. उसको सरदर्द की पुरानी बिमारी थी जो की एक दिन उभड़ गयी और चुकी वो बीएचयू का विद्यार्थी था और वहीँ हॉस्टल में रहता था इसलिए वो बीएचयू में ही बीएचयू के विद्यार्थियों के लिए चलने वाले डिस्पेंसरी गया दवा लेने के लिए. डॉक्टर ने उसका साधारण जांच किया जिसमे ब्लड प्रेशर बहुत गड़बड़ था. तो उसको उसको और भी कई जांच लिख दिया, जब रिजल्ट आया तो उसमे एक बहुत खतरनाक चीज सामने आयी और वो था क्रिएटिनिन लेवल जो की ५.१ पहुंच चुका था जबकि इसे होना चाहिए 0.5 से 1-1.2 के बीच जिससे ये तो अंदाज़ लग गया की किडनी से सम्बंधित कोई बहुत गंभीर बीमारी है.

उसका किडनी से सम्बंधित दूसरा टेस्ट किया गया तो मालूम चला की एक किडनी पूरी तरह ख़राब हो चुकी थी और दूसरी भी ८०% तक ख़राब हो चुकी थी. इसी बीच अभी दवा इलाज शुरू भी नहीं हुआ था की कुंदन के एक आँख की रेटिना सरक गयी और उसको एक आँख से दिखना बंद हो गया. एक २२ साल के लड़के के लिए ये जमीन फट जाने जैसी खबर थी. तुरंत उसके घर वालो को बुलाया गया. बीएचयू में इलाज भी शुरू हुआ लेकिन उसकी हालत दिन प्रति दिन बिगड़ती जा रही थी. कुछ दिनों तक तो बीएचयू ने खर्चा उठाया लेकिन उसके बाद वो भी हाँथ पीछे खींच लिए. दूसरी सबसे बड़ी परेशानी थी की बीएचयू में किडनी ट्रांसप्लांट की सुविधा नहीं थी, उसके पास केवल एक रास्ता था की वो या तो दिल्ली जाए या फिर लखनऊ जहाँ उसको बहुत पैसे की जरूरत पड़ती लेकिन परिवार के पास कुछ नहीं था.

असल में उन लोगों के पास गरीबी रेखा से नीचे वाला राशन कार्ड था. घर पर थोड़ा बहुत जमीन था खेती वाला और पिता जी भी बेरोजगार। अब सबसे बड़ी समस्या थी की पैसा कहाँ से आएगा। बीएचयू ने एक मदद किया की वो बोले की जबतक पैसे का व्यवस्था नहीं हो जाता तबतक मरीज को हम अपने यहाँ रखेंगे फ्री में लेकिन पैसे का व्यवस्था तो करना ही पड़ेगा। दिल्ली में गंगा राम हॉस्पिटल में पता करने पर मालूम चला की केवल ट्रांसप्लांट का ही खर्चा लगभग ७.५ लाख रुपया होगा। बीएचयू ने ये भी वादा किया वो लोग भी थोड़ा पैसा देंगे लेकिन पूरा नहीं कर पाएंगे। एक ही रास्ता बचा था की सरकारी मदद ली जाए लेकिन उसमे समय लगता है और समय की बहुत बड़ाई दिक़्क़त थी क्योकि कुंदन की तबियत दिन प्रति दिन बिगड़ती जा रही थी. उसके क्लास के पढ़ने वाले बच्चे बीएचयू में विरोध प्रदर्शन कर रहे थे, उनकी ये मांग थी की पूरा खर्चा बीएचयू उठाये लेकिन बीएचयू ने सीधे मना कर दिया था. एक समय तो ऐसा भी आ गया था जब कुंदन अपने आपको हॉस्पिटल के कमरे में बंद कर लिया था, बोला या तो मेरा इलाज करो या तो मुझे जान से मार दो.

उसको डायलिसिस पर रखा गया था. लेकिन लगभग लगभग सभी नसें बेकार हो चुकी थी. पहले हाँथ से  करते थे, फिर पैर से करना शुरू किये और फिर अंततः गर्दन के पास से करते थे. जब गर्दन के पास से करना शुरू  किये तो नस में पाइप लगवाने के लिए कुंदन को लखनऊ जाना पड़ता था. सोच कर भी शरीर कांप जाता है की कैसे उतनी बिमारी में वो बनारस से लखनऊ केवल एक पाइप डलवाने के लिए जाता था. मुझे अभी भी याद है की एक बार हम उसको अपने घर के पास देखे चाय की दूकान के बाहर खड़ा था, जो की मेरे लिए एक झटका सा था क्योकि उस समय उसकी तबियत इतनी ज्यादा खराब थी की सभी लोग लगभग मान चुके थे की अब कुंदन बचेगा नहीं। और उसको हॉस्पिटल से  बाहर देखना मेरे लिए बहुत बड़े अचरज का विषय था.

खैर, हम तुरंत उसके पास गए लेकिन उसकी हालत देखकर अपनी आँखों पर विश्वास नहीं हो रहा था. पूरा शरीर जबरदस्त रूप से सूज गया था और पीला पड चुका था. वो बात कर रहा था हमसे लेकिन क्या बोल रहा था कुछ समझ नहीं आ रहा था, लेकिन सुनाई उसको सब कुछ साफ़ साफ पड रहा था. तभी देखे कुंदन के पीछे उसके पिता जी भी खड़े थे. हम उनसे पूछे की कुंदन हॉस्पिटल से बाहर कैसे निकला तो वो बताये की वो खुद अपने से सारा पाइप निकाल कर हॉस्पिटल से बाहर आ गया था. मुझे अच्छी तरह से मालूम है की वो इतना ज्यादा कष्ट झेल चूका था की किसी तरह से बस उस नरक से बाहर आना चाहता था. समय बीतता जा रहा था लेकिन पैसे की व्यवस्था नहीं  हो पा रही थी. किसी तरह से उसके घर वाले, उसके मित्र और बाकी जो मेरे परिवार से हो सकता था हम लोग कर रहे थे. उसके मित्र लोग बीएचयू के अंदर और शहर में अलग अलग जगह भिक्षाटन कर के तकरीबन १.५ लाख रुपया जुटाए।

लेकिन उतने पैसे से कुछ नहीं होने वाला था और कुंदन की हालत भी दिन प्रति दिन बिगड़ती जा रही थी. अब हमलगों के पास केवल एक ही विकल्प था की जितना जल्दी से जल्दी हो सके सरकारी मदद की व्यवस्था की जाए. सरकारी मदद के लिए दो विकल्प थे- सांसद निधि और विधायक निधि। सांसद निधि से मदद मिलने में समय ज्यादा लगता है क्यंकि सबकुछ पहले दिल्ली फिर लखनऊ और फिर जिले स्तर पर पहुँचता है इसलिए लेट हो जाता है जबकि विधायक निधि सीधे लखनऊ से पास हो जाता है. इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए मैंने अपने बड़े भाई समान नन्दलाल मास्टर जी को फ़ोन किया जो की एक समाजसेवक है और लोक समिति नामक संस्था चलाते हैं. उन्होंने मुझे तुरंत संदीप पांडेय जी से मिलने के लिए बोला जो की उस समय बीएचयू में आईटी विभाग में पढ़ा रहे थे.

संदीप भईया से मेरा भी पहले कई बार मिलना हुआ था इसलिए कोई दिक़्क़त नहीं हुई. उन्होंने भी यही सलाह दी की राज्य सरकार से मदद लिया जाए. असल में उन्होंने ही मदद के लिए प्रार्थना पत्र अपने हांथो से लिखा और सारा कागज एकत्रित कर के ये बोला की अब जिलाधिकारी कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं. आवेदन हो गया और अंततः लखनऊ से पैसा भी पास हो गया और वो पैसा सीधा गंगा राम हॉस्पिटल के खाते में कुंदन के इलाज के नाम पर ट्रांसफर कर दिया गया था. लेकिन अब दूसरी दिक़्क़त ये सामने आयी की वहाँ पर तारीख नहीं मिल रही थी. और इसी बीच लेट होने की वजह से वो पैसा वापस से राज्य सरकार के खाते में ट्रांसफर हो गया. जिसको दोबारा से बहुत चक्कर लगाने के बाद फिर से राज्य सरकार से गंगा राम में ट्रांसफर करवाया गया. अंततः ट्रांसप्लांट की डेट आ गयी और कुंदन को बीएचयू से गंगा राम हॉस्पिटल पहुंचा दिया गया.

इस बीच कुंदन बीएचयू में ९ महीने तक अपने जीवन के लिए संघर्ष करता रहा. उसके कष्ट को बयान कर पाना मुश्किल है, केवल वो लड़का ही अपना कष्ट समझ सकता है. खैर, बीएचयू में ९ महीने रहने का उसका बिल १३ लाख रुपया आया जिसमे दवा, डायलिसीस और वार्ड के कमरे का किराया सब कुछ जुड़ा हुआ था. बीएचयू ने उसके सारे खर्चे को माफ़ कर दिया और उसके अलावा १,६०,००० रुपया भी किया। लेकिन इस मदद से भी उसका इलाज पूरा नहीं हो पता क्योकि सरकार से केवल ४,५०,००० रूपये की मदद मिली थी जबकि गंगा राम में ट्रांसप्लांट का ही खर्च केवल ७,५०,००० रुपया था. इस बीच हम भी अपने दोस्तों से कुछ मदद लिए और अलोक, सना भाई, योगेश और कुछ एक विदेशी मित्रों ने भी कुंदन के लिए कुछ मदद किया जिससे उसका ऊपरी खर्च कुछ हद तक सपोर्ट हो सके.

गंगा राम हॉस्पिटल में ही कुंदन के पिता जी की मुलाक़ात किसी एनजीओ के एजेंट से हुई जो इनको बोला की वो कुंदन का बाकी खर्चा किसी संस्था से दिला देगा और ट्रांसप्लांट के बाद दवा में होने वाले खर्च में भी मदद करेगा जो की बहुत बड़े सुकून की खबर थी. इसके बदले वो कुंदन के पिता जी से कुंदन के इलाज सम्बंधित सारे कागज लिया और कुछ दिन बाद बाद इन लोगों को कुछ पैसा भी ला कर दिया। पूरा उसने ७०,००० रुपया दिया था लेकिन बाद में मालूम चला की वो एक ऐसे गैंग का एजेंट था जो कुंदन जैसे निर्धन परिवार वालों की मजबूरी का फायदा उठा कर अलग अलग जगहों से पैसा लेता है और उसका थोड़ा हिस्सा मरीज को देगा और बाकी अपने खुद खा जाता है. कुछ हफ़्तों बाद वो कुंदन के पिता जी पर दबाव बनाने लगा दिए हुए ७०,००० वापिस करने के लिए लेकिन इन लोगों के वापस करने के लिए कुछ था ही नहीं तो देते कहाँ से.

खैर, अंततः कुंदन का किडनी ट्रांसप्लांट हुआ, उसके पिता जी की एक किडनी लेकर। कुंदन को ३ महीने हॉस्पिटल में रखा गया था जिस बीच उसकी हर तीसरे दिन डायलिसिस की जाती थी. लेकिन इस बीच वो शुगर का मरीज हो गया और एक कान से सुनाई देना बंद कर दिया। डॉक्टर ने बोला की ये ट्रांसप्लांट का साइड एफेक्ट है जो की पूरी तरह ख़त्म तो नहीं होगा लेकिन धीरे धीरे कम हो जायेगा। अंततः कुंदन के डिस्चार्ज होने का समय आ गया लेकिन फिर वही दिक़्क़त की पैसा नहीं था हॉस्पिटल का बिल चुकाने के लिए. लेकिन गंगा राम हॉस्पिटल ने मानवता का परिचय देते हुए कुंदन के डायलिसिस का बिल माफ़ कर दिया और किसी तरह कुंदन हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हो कर बनारस वापस आया.

डिस्चार्ज होने के बाद कुंदन को शुरू में हर महीने में एक बार दिल्ली जाना पड़ता था अपने डॉक्टर से मिलने के लिए जो की बाद में ३ महीने में एक बार कर दिया गया है. आज कुंदन स्वस्थ है लेकिन उसको बहुत सावधानी बरतनी पड़ती है जैसे की शारीरिक श्रम का काम नहीं करना चाहिए, धुल, धुँआ, प्रदूषण से बचना है. साफ़ सफाई की विशेष ख्याल रखना है ताकि किसी तरह के कोई भी इन्फेक्शन पनपने की संभावना न हो, शुगर की वजह से खान-पान का विशेष ख्याल रखना है और हाँ, दवा जिंदगी भर चलेगी। शुरू में तो लगभग ३५-४० गोली रोज खानी पड़ती थी जो की समय के हिसाब से धीरे धीर काम होंगी लेकिन कुछ दवाएं जिंदगी भर खाना पड़ेगा। और ये दवाएं सस्ती भी नहीं है, इनका खर्च लगभग १२,००० रुपया महीना पड़ता है. जैसे ईश्वर इतना कठिन समय में मदद किये वैसे ही दवा की भी व्यवस्था हो जाएगी यही प्रार्थना है. ॐ शांति।

इन्फेक्शन का पता चला- 10 जुलाई 2015 

बीएचयू में इलाज चला- 23 अप्रैल 2016 तक 

फिर गंगा राम में इलाज चला – अगस्त २०१६ तक    

कैंसर का ईलाज

मैंने कई बार सोचा की मुझे हिंदी में भी कुछ लेख लिखना चाहिए लेकिन पता नहीं क्यों मैं ये काम कभी नहीं कर पाया I अन्ततः मुझे एक ऐसा सुनहरा अवसर मिला है, जिसे असल में मैं अवसर से ज्यादा अपना दायित्व समझता हूँ, जब मैं अपने आपको ये लेख लिखने से रोक नहीं सका I इस लेख के द्वारा मैं कैंसर के ईलाज सम्बन्धी अपना अनुभव साझा करना चाहता हूँ I असल में मेरी माता जी को ब्रैस्ट कैंसर (स्तन का कैंसर) है जिसका ईलाज अगस्त २०१५ से निरंतर चल रहा है. इस दौरान मैंने बनारस में बी एच यू से लगाये दिल्ली के एम्स, बम्बई के टाटा मेमोरियल एवं इनके अलावा कई और सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों का चक्कर काटा I अन्ततः मुझे एक सही दिशा मिली और मेरी माता जी का ईलाज आज सफलतापूर्वक चल रहा है I इस लेख को लिखने के पीछे मेरा केवल एक ही मक्सद है की जिस तरह मैं परेशान हुआ, और मुझे ये भी मालूम है की हज़ारों लाखों लोग मेरी तरह है, वैसा किसी और को परेशान न होना पड़े I

मुझे पता है की आज प्रतिदिन कैंसर से पीड़ित रोगियों की संख्या बढती जा रही है और हमारे देश भारत में, ख़ास कर के, उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में इस रोग के ईलाज की कोई समुचित व्यवस्था नहीं है I मेरी माता जी से सर्वप्रथम जुलाई में अपने छाती के उपरी हिस्से में एक छोटी सी गाँठ को महसूस किया I उनको न कोई दर्द था और न ही कोई दूसरी परेशानी I हम लोगों ने सोचा की शायद कोई साधारण सी दिक्कात होगी और हमने उन्हें एक महिला के डॉक्टर के पास भेजा I उस महिला डॉक्टर ने बोला की हमे    बी एच यू में कैंसर विभाग में दिखाना चाहिए I जैसा की हम सब लोग जानते हैं की बी एच यू पूरी तरह से दुर्व्यवस्था से भरा हुआ हॉस्पिटल है इसलिए हम वहां नहीं जाना चाहते थे I बी एच यू  के ही एक रिटायर डॉक्टर है जिनका नाम है डॉक्टर शुक्ला, हमने उनको पहले दिखाना उचित समझा I डॉक्टर शुक्ला ने बोला की हमलोगों को पहले मेमोग्राफी नाम का एक एक्स-रे करना पड़ेगा जिससे की गाँठ की सही स्थिति का पता चल पायेगा I

मेमोग्राफी करने के बाद जब हमलोग वापस डॉक्टर शुक्ला के पास गए तो उन्होंने हमे दो विकल्प दिया- या तो हम बी एच यू  में ऑपरेशन करा लें और वही पर किमो भी कराये या तो वो किसी प्राइवेट हॉस्पिटल में अपने संरक्षण में ऑपरेशन करवाएंगे और बी एच यू  में किमो I उनके कहने का साफ़ मतलब था की ये केस कैंसर का हो सकता है I कैंसर नाम का शब्द सुन कर ही हम लोग अन्दर से एकदम डर गए थे, समझ में नहीं आ रहा था की क्या किया जाए I इसी बीच हमारे एक पडोसी, जो की बी एच यू के कई डॉक्टरों को व्यक्तिगत रूप से जानते थे, मदद के लिए आगे आये I उन्होंने हमे बी एच यू के कैंसर विभाग में कई डॉक्टरों से मिलवाया I बी एच यू के डॉक्टर लोगों ने कुछ एक टेस्ट कराने के लिए कहा जिनमे से एक था FNAC I ये टेस्ट कैंसर के सेल्स की जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है I FNAC के रिपोर्ट में ये बात स्पष्ठ हो गयी की मेरी माता जी को शरुआती दौर का कैंसर था I ये सुन कर तो मेरी रूह काँप गयी, मुझे कुछ नहीं समझ में आ रहा था की आगे क्या किया जाये I

बी एच यू के डॉक्टर्स का कहना था की हो सकता है दोनों छातियों को पूरी तरह से निकालना पड़े और उसके बाद किमो और रेडिएशन (जिसको हम देसी भाषा में सेकाई भी कहते है) करना पड़े I मुझे अभी भी इस बात पे विश्वास नहीं हो रहा था की मेरे परिवार में किसी को कैंसर हुआ है I मैंने बनारस में कई और प्राइवेट डॉक्टर्स से संपर्क किया लेकिन लगभग सभी के सभी एक ही बात कहते थे I बनारस में कैंसर के ईलाज से सम्बंधित बी एच यू के बाद यदि किसी दूसरे हॉस्पिटल का नाम यदि कोई जानता है तो वो है रेलवे का कैंसर हॉस्पिटल I मुझसे कई लोगों ने बोला की मुझे एक बार वहाँ के डॉक्टर्स से भी मिलना चाहिए I लेकिन एक नाम जो मेरे दिमाग में हमेशा से था वो था मुंबई का टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल I मैंने ये निर्णय ले लिया था की चाहे कुछ भी हो जाये हम बिना टाटा मेमोरियल के डॉक्टर्स से सलाह लिए बिना कोई ईलाज नहीं शुरू करेंगे I एक दिन मैं रेलवे हॉस्पिटल जाने की तैयारी कर रहा था की तभी मेरा एक मित्र आया माता जी का हाल-चाल पूछने के लिए और मैंने उसे बताया की आज मैं रेलवे के हॉस्पिटल जा रहा हूँ I

मैंने उसे टाटा मेमोरियल जाने के संभावनाओं के बारे में भी बताया I उसने मुझसे पुछा की टाटा कब जाना चाहते हो, मैंने बोला कल I तब उसने बोला की अगर कल जाना चाहते तो आज ही क्यों नहीं, एक दिन व्यर्थ करने का क्या मतलब? मुझे उसकी बात बहुत सही लगी और मैं तुरंत मुंबई चला गया I मुंबई में मेरे कुछ बचपन के दोस्त, अलोक और योगेश, रहते है और मैं उन्ही लोगों के भरोसे मुंबई जाने वाला था I मैंने उनलोगों को फ़ोन किया और उन्होंने भी बोला की तुरंत चले आओ I मुंबई पहुचने के बाद योगेश ने बोला की वो व्यक्तिगत रूप से किसी डॉक्टर को टाटा में जानता है और मुझे उनसे मिलवायेगा I अन्ततः मैं टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल पंहुचा और वहां पहुचने के बाद मुझे मालूम चला की जिस डॉक्टर को मेरा मित्र जानता था वो मुह के कैंसर के डॉक्टर थे तो इसलिए मेरा उनसे मिलने का कोई औचित्य नहीं था I खैर, टाटा मेमोरियल शुरू से ही जबरदस्त व्यवस्थित हॉस्पिटल लगा I असल में मैंने कभी भी उस तरह का हॉस्पिटल नहीं देखा था I

सब कुछ निहायत व्यवस्थित था, लोग एक दूसरे का मदद करने वाले थे, अगर आप किसी को कुछ बोले तो लोग सुनाने को तैयार थे नहीं तो अगर कोई बी एच यू चला जाए तो जैसे लगता है की हम वह भीख मांगने गए हो I टाटा मेमोरियल की दो इमारतें हैं- एक पुरानी जहाँ आज कल ज्यादातर टेस्ट वगैरह होते है और दूसरी है नयी इमारत जहाँ पर ज्यादातर OPD हैं I मैं इमारत में था और वहां सर्वप्रथम मैं पूछ-ताछ काउंटर पे गया I उन्होंने ने बी एच यू की सारी रिपोर्ट्स देखीं और मुझसे पुछा की क्या मैं केवल डॉक्टर से सलाह लेना चाहता हूँ या मुझे टाटा में ही ईलाज भी करवाना है I शुरू में मैंने बोला की मैं केवल सलाह लेना चाहता हूँ तो मेरा पंजीकरण करके मुझे ब्रैस्ट कैंसर विभाग में डॉक्टर के पास सलाह लेने के लिए भेज दिया जिसका फीस पंद्रह सौ रुपया था I OPD में बहुत ज्यादा भीड़ थी लेकिन चूँकि सब कुछ व्यवस्थित था इस वजह से कोई बहुत ज्यादा परेशानी नहीं हुई I

शायद दो-तीन घंटे बाद मेरा नंबर आया और जब मैं डॉक्टर के कमरे में गया तो वह मेरे और डॉक्टर के अलावा और कोई नहीं था I ये बात मुझे बहुत अच्छी लगी नहीं तो बी एच यू और दूसरे सरकारी हॉस्पिटल में हमेशा डॉक्टर्स के अगल बगल चिड़ियाघर सरीखा माहौल रहता है I वहां मौजूद महिला डॉक्टर ने बी एच यू के सारे रिपोर्ट्स को देखा और फिर मेरी माता जी के जीवन के बारे में कई सवाल पूछने लगी I उनमे से कई का उत्तर मुझे नहीं मालूम था तो मैंने तुरंत बनारस फ़ोन कर के उन प्रशनो का जवाब देने का कोशिश किया I अन्ततः डॉक्टर ने मुझसे बोला की मुझे माता जी को मुंबई बुलाना ही पड़ेगा I डॉक्टर का ये कहना था की कुछ परिस्थियों में डॉक्टर केवल रिपोर्ट के आधार पर सलाह दे सकते हैं लेकिन यदि महिलाओं में छाती का कैंसर है तो मरीज को देखना आवश्यक हो जाता है क्योकि डॉक्टर को गाँठ को छु कर महसूस करना जरूरी होता है इसके अलावा स्तन का आकार देखना भी बहुत जरूरी होता है I

मैंने अपनी माता जी को अगले दिन ही मुंबई बुला लिया और उसके अगले दिन टाटा लेकर गया I डॉक्टर ने मेरी माता जी का परिक्षण किया जिसके बाद उन्होंने बोला की इसमें ऑपरेशन तो करना ही पड़ेगा और आगे का ईलाज कुछ टेस्ट हो जाने के बाद पता चलेगा I उन्होंने मुझे दो विकल्प दिए- या तो मैं टाटा मेमोरियल, लोअर परेल में तीन-चार महीने बाद ऑपरेशन कराऊं और या नहीं तो टाटा मेमोरियल का ही एक दूसरा सेण्टर, जो की नवी मुंबई के खार घर इलाके में है, वहां अगले हफ्ते ही करा लूं I वह डॉक्टर्स ने कहा की दोनों सेण्टर एक ही है, दोनों के डॉक्टर्स एक ही है केवल जगह अलग अलग है I उनका कहना था की लोअर परेल में भीड़ ज्यादा होने के कारण एक नया सेण्टर २००२ में नवी मुंबई में भी शुरू किया गया है I शुरुआत में मुझे ये बात समझ में नहीं आई लेकिन बाद में इन्टरनेट पर रिसर्च करने के बाद और कई दूसरे लोगों से पूछने के बाद ये बात तो साफ़ हो गया की दोनों सेण्टर एक ही है I

चूँकि अब ये बात स्पष्ठ हो चुकी थी की हमलोगों को सारा ईलाज टाटा में ही कराना था इसलिए वहां रजिस्ट्रेशन कराना भी जरूरी था I सर्वप्रथम मैं पूछ-ताछ काउंटर पे गया जहाँ उन्होंने मुझे ईलाज और उससे सम्बंधित सभी खर्चों के बारे में जानकारी दिया I टाटा में मरीजो का दो श्रेणियों में पंजीकरण किया जाता है – १- जनरल और २- प्राइवेट I जनरल और प्राइवेट मरीजों का ईलाज एकदम एक ही तरीके से बिना किसी भेदभाव के किया जाता है लेकिन सुविधाओं में और खर्च में अंतर होता है I यदि कोई प्राइवेट श्रेणी में अपना पंजीकरण करता है तो उसका ईलाज जनरल श्रेणी वाले मरीज से तकरीबन दस गुना महंगा होगा I असल में टाटा मेमोरियल में भारत सरकार के परमाणु उर्जा विभाग के द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है जो की प्राइवेट श्रेणी के अंतर्गत आने वाले मरीजों को नहीं मिलती है I उन्होंने बताया की अगर मैं मरीज का पंजीकरण जनरल श्रेणी में करूँगा तो ईलाज का खर्च तकरीबन ३०,००० रुपया होगा और अगर मैं प्राइवेट श्रेणी में पंजीकरण करूँगा तो ईलाज का खर्च तकरीबन २,५०,००० रुपया होगा I

मैंने बहुत सोचने के बाद माता जी का पंजीकरण प्राइवेट श्रेणी में करा दिया I मुझे मालूम था की मेरे लिए ये बहुत बड़ा खर्चा होगा लेकिन फिर भी मैंने यही रास्ता चुना I टाटा हॉस्पिटल के हाल में कई एटीएम सी दिखने वाली मशीन थी जो असल में पंजीकरण करने वाली मशीन थी और सभी लोगों को उस मशीन में अपने से मरीज के सम्बंधित जानकारी डालना जरूरी था I जानकारी डालने के बाद मशीन एक पंजीकरण नंबर दे देती है जिसको ले कर वह काउंटर पर मरीज के साथ जाना होता है और उसी नंबर के आधार पर मरीज का पंजीकरण किया जाता है I सारी जानकारी पूछने के बाद हमलोगों को एक स्मार्ट कार्ड दिया गया जिसे हमेशा साथ में रखना जरूरी होता है चूँकि इसी स्मार्ट कार्ड में मरीज के बारे में सारी जानकारी होती है और इसी स्मार्ट कार्ड में ईलाज का सारा पैसा भी जमा किया जाता है I

इसी बीच ऑपरेशन के डॉक्टर ने हमसे कई टेस्ट कराने के लिए कहा जिनमे से कुछ टेस्ट पहले ही बी एच यू में किये जा चुके थे जिसका रिपोर्ट हमारे पास था लेकिन टाटा के डॉक्टर्स ने बोला की अगर हम टाटा में ईलाज कराना चाहते है तो हमे वहां फिर से सारा टेस्ट कराना पड़ेगा I वो लोग बी एच यू के टेस्ट रिपोर्ट से संतुस्ट नहीं थे और मुझे लगता है की बी एच यू की दुर्व्यवस्था को देखते हुए कोई भी वहां की किसी रिपोर्ट से संतुष्ट नहीं होगा I हम लोगों ने दोबारा से सारा टेस्ट टाटा में करवाया और रिपोर्ट आने के बाद डॉक्टर से मिल कर खारघर वाले सेण्टर में अगले सप्ताह का ऑपरेशन का डेट ले लिया I ऑपरेशन से पहले मुझे केवल एक बार खारघर जा के वह के डॉक्टर्स से मिलना था जो मैं शायद अगले दिन ही कर लिया I वह के डॉक्टर्स ने मुझसे बोला की ऑपरेशन के एक दिन पहले मरीज को भर्ती करा देना I मुझसे ये भी बताया गया की मरीज को ऑपरेशन के बाद किमो और रेडिएशन देना पड़ सकता है जिसकी सही जानकारी ऑपरेशन के बाद पता चलेगी I

अन्ततः ऑपरेशन के एक दिन पहले हमलोग खारघर पहुच गए, डॉक्टर ने कुछ थोडा बहुत चेकअप किया और बोला की कल सुबह सात बजे हॉस्पिटल आने के लिए I डॉक्टर ने ये भी बोला की ऑपरेशन वाले दिन सुबह कुछ भी नहीं खाना है, पेय पदार्थ ले सकते हैं I सब कुछ ठीक था लेकिन तभी एक बहुत बड़ी दिक्क़त हो गयी की हॉस्पिटल में प्राइवेट वार्ड में कोई भी बेड या कमरा खाली नहीं था I डॉक्टर्स ने बोला की हमलोगों को जनरल वार्ड के गेस्ट हाउस में रात बितानी होगी I सुनने में ये कोई बड़ी बात नहीं थी लेकिन जब हम लोग गेस्ट हाउस में पहुचे तो वहां का नज़ारा देख कर मेरा तो होश ही उड़ गया I वहां पर पहले से ही काफी ऐसे मरीज थे जिनका ऑपरेशन हो चुका था, अभी उनका घाव खुला हुआ था और एक कमरे में आठ बेड लगे हुए थे I सबसे बड़ी दिक्क़त ये थी की उस कमरे की खिड़कियाँ भी बंद की गयी थी ताकि मरीजों को ठंढ न लगे जिसके वजह से कमरे में अजीब तरह की बदबू और घुटन हो रही थी I

वो नज़ारा देख कर कोई भी डर सकता था और मैं ये नहीं चाहता था की मेरी माता जी को भी ऑपरेशन के पहले किसी तरह कोई डर हो I मैंने तुरंत निर्णय किया की मैं किसी हालत में वह रात नहीं गुजारूँगा I भाग्यवश मेरा एक दूसरा बनारस का दोस्त, बाबु, भी उस समय मुंबई में ही था और उसके एक रिश्तेदार खारघर में ही कहीं रहते थे जिनके बारे में बाबु ने मुझे बताया था I मैंने तुरंत बाबु कोई फोन किया और बाबु भी खारघर आ गया और हमलोगों को अपने रिश्तेदार के घर ले गया I भगवान की दया से इन रिश्तेदार का घर भी हॉस्पिटल से ज्यादा दूर नहीं था I उस रात मैं सो नहीं पाया था, रात भर सोचते हुए ही गुजर गया, सूर्योदय हुआ और हमलोग तैयार होकर हॉस्पिटल पहुच गए I डॉक्टर्स ने मुझे पहले ही बताया था की रेडिएशन की जरूरत पड़ सकती है I रेडिएशन भी दो तरह से होता है – १- अंदरूनी रेडिएशन और दूसरा बाहरी रेडिएशन I

अंदरूनी रेडिएशन में डॉक्टर्स ऑपरेशन के समय ही स्तन में एक ट्यूब डाल देते है जिसके सहारे रेडिएशन दिया जाता है लेकिन इसकी संभावना का पता ऑपरेशन के समय ही पड़ता है I असल में हर किसी को बगल में (कांख ) में लसिका गाँठ होती है, जिसे अंग्रेजी में लिम्फ नोड कहते है, और अगर लिम्फ नोड में कैंसर का इन्फेक्शन नहीं हो तो इस परिस्थिति में ट्यूब के द्वारा अंदरूनी रेडिएशन किया जा सकता है और अगर लिम्फ नोड में इन्फेक्शन हो तो इस परिस्थिति में अंदरूनी रेडिएशन की संभावना नहीं होती है और इस इन्फेक्शन का पता केवल ऑपरेशन के दौरान ही चलता है I डॉक्टर्स ने ये भी हमलोगों को बताया था की केवल गाँठ निकालेंगे या पूरा स्तन ये भी ऑपरेशन के समय ही पता चलेगा I खैर, एक हमलोग अपनी बारी का इंतज़ार कर ही रहे थे की तबतक एक डॉक्टर आये और मुझसे बोले की अपने स्मार्ट कार्ड में पैसा डलवा दीजिये I

मैं अपनी माता जी को ऑपरेशन थिएटर के बाहर छोड़ कर कार्ड में पैसा डलवाने चल गया I यहाँ एक और दिक्क़त हुई, मुझे अंदाज़ नहीं था की कितने पैसों की जरूरत पड़ेगी I मेरे पास जेब में शायद २०,००० रूपये थे और बैंक अकाउंट में ३५-४०,००० I मुझसे तुरंत ५०,००० जमा करने के लिए कहा गया और सबसे बड़ी दिक्क़त ये थी की सभी एटीएम एक दिन में २५,००० से ज्यादा रूपये नहीं देते हैं I खैर किसी तरह से मैंने पैसा जमा कर दिया और जब वापस ऑपरेशन थिएटर गया तो मेरी माता जी को पहले ही अन्दर ले जाया चुका था I थोड़ी देर बाद एक डॉक्टर आये और बोले की मेरे माता जी के लिम्फ नोड में इन्फेक्शन है जिसके वजह से अंदरूनी रेडिएशन नहीं हो सकता है I डॉक्टर ने ये भी बताया की चूँकि गाँठ बहुत बड़ी नहीं थी इस वजह से पूरा स्तन हटाये बिना ही ऑपरेशन किया गया है जो सुन के मुझे काफी अच्छा लगा I

डॉक्टर्स ने मेरी माता जी को केवल एक रात हॉस्पिटल में रखा और उसके बाद घर वापस जाने की छुट्टी दे दी I उन्होंने बोला की आगे का सारा ईलाज टाटा मेमोरियल के लोअर परेल वाले हॉस्पिटल में होगा I उनलोगों ने ऑपरेशन के दौरान ही पेट में एक नली लगा दी थी जो एक छोटे से डब्बे से जुडी हुई थी और इस नाली से हमेशा थोडा थोडा खून के रंग का तरल पदार्थ निकलता रहता था I डॉक्टर्स ने हमलोगों से बोला की जितना भी तरल निकलेगा उसे हमे एक जगह लिख कर रखना है और डॉक्टर को दिखाना है I ऑपरेशन के अगले दिन ही हमे लोअर परेल वाले हॉस्पिटल जाने के लिए भी बोला गया जहाँ एक व्यायाम से सम्बंधित कार्यशाला में मरीज को ले कर जाना था I ये कार्यशाला प्रतिदिन हॉस्पिटल में आयोजित की जाती है लेकिन उसमे वही लोग भाग ले सकते हैं जिनका ऑपरेशन हुआ हो I वो कार्यशाला मुझे शारीरिक व्यायाम से ज्यादा मनोवैज्ञानिक व्यायाम की लगी I

वहां व्यायाम के बारे में बताने वाले कुछ डॉक्टर थे जिन्होंने ऑपरेशन होने के बाद करने वाले व्यायाम के बारे में बताया I उन्होंने ये भी बोला की ऑपरेशन के बाद व्यायाम बहुत ज्यादा जरूरी है नहीं तो ऑपरेशन की अगल बगल वाली नसों में तनाव हो सकता है जो की आगे चल कर बहुत घातक हो सकता है I डॉक्टर्स के अलावा वहां कुछ एक लोग ऐसे भी थे जो अपने कैंसर का ईलाज करा कर साधारण जीवन व्यतीत कर रहे थे I उनलोगों ने भी अपने अनुभवों को मरीजों के साथ साझा किया जिससे की मरीजों का मनोबल बढ़ सके और मुझे व्यक्तिगत रूप से ये बात बहुत ही अच्छी और जरूरी लगी I इसी बीच डॉक्टर्स ने किमो शुरू करने के पहले होने वाले जांचों को लिख दिया जिसमे बोन स्कैन (पूरे शरीर के हड्डी का स्कैन) और सी टी स्कैन भी शामिल था I बाकी और जांचो की तरह ही इनदोनो जांचो के लिए बहुत लम्बी लाइन थी I बोन स्कैन के लिए एक सप्ताह और सी टी स्कैन के लिए पंद्रह दिन बाद का नंबर मिला जो की बहुत बड़ी मुश्किल नहीं थी क्योकि किसी हालत में भी किमो जल शुरू होने वाला नहीं था I

अगर हमलोग चाहते तो बाहर भी दोनों जांच करा सकते थे लेकिन हम लोगों ने टाटा मेमोरियल में ही जांच कराना उचित समझा I इस दौरान ऑपरेशन के वक़्त डॉक्टर्स ने घाव के पास से तरल पदार्थ निकालने के लिए जो नाली लगायी थी वो भी निकाल दी गयी I अबतक सारी रिपोर्ट्स भी आ चुकी थी जिसमे लगभग पंद्रह दिन लगा I अन्ततः हमलोग डॉक्टर्स के पास फिर गए और उन्होंने सारी रिपोर्ट्स का अध्ययन करने के बाद हमे बताया की मेरी माता जी को आठ बार किमो लगेगा जो की हर 21 दिन के अंतर पर दिया जायेगा I किमो एक विशेष प्रकार की दवा होती है जो की कैंसर के रोग में मरीजों को दी जाती है I अलग अलग मरीजों को उनके रोग एवं स्वास्थ के हिसाब से अलग तरह की दवा दी जाती है I मेरी माता जी को दो अलग तरह का किमो दिया जाना था, शरुआत के चार किमो अलग और अंत के चार किमो अलग I मैंने किमो के बारे में कई किस्से सुने थे जिसे लेकर मैं डरा हुआ था I असल में मुझे कोई भी किस्सा याद नहीं था फिर भी मैं बहुत डरा हुआ था I

मेरा सबसे बड़ा दर मेरी माता जी की उम्र को लेकर था I मैंने डॉक्टर से पुछा की क्या एक ६७ साल की महिला को किमो देना सुरक्षित होगा? और डॉक्टर ने बोला की किमो का किसी व्यक्ति के उम्र से कोई लेना देना नहीं होता है, सब कुछ निर्भर करता है व्यक्ति के स्वास्थ पर I अगर व्यक्ति स्वस्थ है तो 80 साल के बुजुर्ग को भी किमो दिया जाता है और अगर व्यक्ति अस्वस्थ है तो 20 साल के नौजवान को भी किमो नहीं दे सकते है और चूँकि मेरी मेरी माता जी का स्वास्थ बिलकुल ठीक था, उनको सुगर या ब्लड प्रेशर तक नहीं था, इसलिए किमो देने में कोई दिक्क़त नहीं है I ये सुनकर हमलोगों को काफी तस्सली हुई I किमो के डॉक्टर्स से हमलोगों को रेडिएशन के डॉक्टर से भी मिलने को बोला I रेडिएशन के डॉक्टर्स ने हमको बताया की किमो ख़त्म होने के बाद 20 रेडिएशन भी देना पड़ेगा जो की हफ्ते में 5 दिन होगा I

सभी कुछ निर्धारित होने के बाद डॉक्टर्स ने हमको दो विकल्प दिए- या तो हमलोग किमो और रेडिएशन दोनों टाटा मेमोरियल में ही कराये या तो वो सारा कुछ तैयार कर देंगे और आगे का किमो हम बी एच यू में ले सकते हैं जिसे सुनते ही मेरी माता जी ने डॉक्टर से हाँथ जोड़ कर बोला की वो टाटा छोड़ कर कहीं नहीं जाना चाहती है और डॉक्टर लोग हंस कर बोले की वही लोग सारा ईलाज करेंगे I और वैसे भी मेरी माता जी का रेडिएशन बी एच यू में नहीं हो पता क्यों की रेडिएशन की मशीन भी कुछ अलग अलग तरह की होती है और जो रेडिएशन मेरी माता जी को दिया जाने वाला था वो बी एच यू में उपलब्ध नहीं था I मेरी माता जी को दिया जाने वाला रेडिएशन का नाम था लिनिअर एकसेलरेटर I ये सुविधा हिंदुस्तान में केवल गिने चुने हॉस्पिटल्स में ही उपलब्ध है I

मेरी माता जी इधर बीच बी एच यू से इस वजह से और ज्यादा डर गयी थी क्योकि टाटा मेमोरियल जाते जाते उनकी मुलाकात कई ऐसे लोगों से हुई जो की उत्तर प्रदेश और बिहार के रहने वाले थे I उनसभी लोगों ने शुरू में अपना ईलाज अपने शहरों में कराया था लेकिन वहां के डॉक्टर्स और हॉस्पिटल ने पूरा केस बिगाड़ दिया जिसके बाद वो बी एच यू गए लेकिन चूँकि हालत पहले ही बहुत ज्यादा ख़राब हो चुकी थी इस वजह से बी एच यू ने भी टाटा मेमोरियल केस भेज दिया I मैं खुद कई ऐसे लोगों से मिला जो हिन्दुस्तान के अलग अलग कोनों से आये हुए थे लेकिन उन सबकी कहानी एक ही थी की उनके शहर के डॉक्टर्स ने सारा केस बिगाड़ दिया I खैर, रेडिएशन के डॉक्टर्स ने ही किमो और रेडिएशन के बाद होने वाले सामान्य दुष्प्रभावों के बारे में भी बता दिया I उन्होंने ने बोला की किमो का प्रभाव अलग अलग व्यक्तियों पर अलग अलग हो सकता है लेकिन जो सबसे सामान्य दुष्प्रभाव है उनमे शरीर में दर्द, पेट से सम्बंधित दिक्क़तें, उलटी होना या महसूस होना और  बाल झाड़ना आम बात है I

अलग अलग किमो भी अलग अलग प्रभाव करता है लेकिन ये सारी दिक्क़तें किमो ख़त्म होने के बाद धीर धीर ठीक हो जाती है, बाल भी दोबारा से २-३ महीने बाद से वापस आने लगते हैं I डॉक्टर्स ने मुझे बताया की पूरा ईलाज होने में तकरीबन 6 महीने का वक़्त लगेगा जो की मेरे लिए बहुत आसान नहीं था I मेरा बड़ा भाई दिल्ली में रहता है और हमलोगों ने सोचा की यदि संभव हो तो आगे का ईलाज दिल्ली में भी करा सकते हैं, इसलिए हमने डॉक्टर्स से 2 दिन का समय माँगा और इस बीच मेरा बड़ा भाई दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में भी संपर्क किया I एम्स में किमो के लिए तकरीबन 6 महीने की लाइन थी और एम्स के डॉक्टरों ने हमसे बोला की यदि हम टाटा मेमोरियल छोड़ कर एम्स में ईलाज कराएँगे तो शायद ये उनके जीवन का पहला ऐसा केस होगा होगा I वहां के डॉक्टर्स का कहना था की जब कोई केस उनसे नहीं संभल पाता है तब वो टाटा मेमोरियल की मदद लेते हैं और यदि हमारे पास रहने की व्यवस्था हो तो हमे टाटा मेमोरियल में ही ईलाज कराना चाहिए I

फिर हमने सोचा की दिल्ली के ही किसी प्राइवेट हॉस्पिटल में भी संपर्क किया जाये तो हमलोगों ने नॉएडा के एक बहुत प्रसिद्ध हॉस्पिटल, जिसका नाम धरमशिला हॉस्पिटल है, में संपर्क किया I वहां का खर्च सुन कर हमलोगों के होश ही उड़ गए, वहां हर एक चीज़ टाटा मेमोरियल से लगभग दस गुना ज्यादा महंगा था I जो किमो की दावा टाटा में 6-8000 रूपये की थी वही किमो वहां 80,000 रूपये की थी, जो रेडिएशन टाटा में तकरीबन 20-25,000 रूपये में होता उसी रेडिएशन का धरमशिला में 2,50,000 रूपये माँगा जा रहा था I अन्ततः हमलोगों ने निर्णय किया की सारा ईलाज टाटा में ही कराएँगे I हमलोग फिर से टाटा गए और वहां किमो का डेट ले लिए I हमलोगों को किमो के दिन जल्दी सुबह बुलाया गया था क्योकि किमो के दिन सुबह एक खून का साधारण सा जांच होता है जिसको सी बी सी (कॉमन ब्लड काउंट) बोलते हैं, इस टेस्ट के द्वारा खून में सेल्स का पता लगाया जाता है I

टाटा में इसकी रिपोर्ट आने में तकरीबन 4-5 घंटे का समय लग जाता है, फिर उसके बाद वो रिपोर्ट ले कर किमो के डॉक्टर के पास जाना होता है और अगर रिपोर्ट सही है तो वो किमो के लिए लिख देते हैं I फिर उसके बाद टाटा की पांचवी मंजिल पे जाना होता है जहा किमो चढ़ाया जाता है I वहां पर भी नंबर लगाना होता है, टाटा में सोमवार को बहुत ज्यादा भीड़ होती है क्योकि इमरजेंसी को छोड़ कर हॉस्पिटल शनिवार और रविवार को बंद रहता है, फिर भी 2-3 घंटे में नंबर आ ही जाता है I चूँकि अलग अलग मरीजों को उनके रोग के हिसाब से अलग अलग किमो दिया जाता है इसलिए किमो के विभाग में पंजीकरण कराने के बाद दावा लेने के लिए लाइन में लगना पड़ता है और यही ज्यादा समय लगता है I जब दवाई तैयार हो जाती है तो उसको एक मरीज को नसों में चढ़ाया जाता है (जैसे साधारण पानी या खून चढाते हैं ) I

अलग अलग किमो को चढाने में लगने वाला समय भी अलग अलग दवा पर निर्भर करता है I मेरी माता जी को शुरू में जो किमो चढ़ाया गया उसमे केवल 30 से 45 मिनट लगता था I किमो चढ़ने के तुरंत बाद मरीज को घर भेज दिया जाता है लेकिन किमो के बाद होने वाली परेशानियों ( जैसे सर दर्द, उलटी, बुखार, शरीर दर्द इत्यादि ) के लिए डॉक्टर कुछ दावा भी देते है I मेरी माता जी को शुरुआत के 24 घंटो तक कुछ भी अलग महसूस नहीं हुआ लेकिन उसके बाद किमो का प्रभाव समझ में आया I उनके पेट में मरोड़ सा होने लगा, हल्का बुखार भी हो गया और कब्ज भी हुआ लेकिन जब उन्होंने डॉक्टर के द्वारा दी हुई दवाओं को लिया तो ये सारी दिक्क़तें ख़त्म होने लगी I साधारणतयः उनको ये दिक्क़तें किमो के 3-4 दिनों तक रहती है और उसके बाद धीरे धीरे सब कुछ ठीक हो जाता है, लेकिन तभी तक अगले किमो का भी दिन आ जाता है I

खैर शुरुआत के चारो किमो ठीक से बीत गया और इस बीच मेरी माता जी किमो लेने के बाद बनारस आ जाती थी और किमो एक दिन पहले फिर मुंबई पहुच जाती थी I पांचवे किमो से दूसरी दवा दी जाने वाली थी और डॉक्टर्स ने हमे बताया की इस किमो में पेट से सम्बंधित कोई ख़ास दिक्क़त नहीं होती है लेकिन शरीर में दर्द इस किमो का बहुत ही साधारण सा दुष्प्रभाव है और ठीक ऐसा ही हुआ भी I जब मेरी माता जी को पांचवा किमो चढ़ाया गया उसके 24 घंटो बाद उनको पूरे शरीर में जबरदस्त दर्द होना शुरू हुआ, ये दर्द कमर से नीचे बहुत ज्यादा था I अन्ततः हमको उन्हें टाटा के इमरजेंसी वार्ड में ले जाना पड़ा जहाँ डॉक्टरों ने कुछ दवा दिया जिससे दर्द धीरे धीरे ठीक हो गया I मेरे माता जी का ईलाज अभी भी चल रहा है, तीन किमो बाकी है और उसके बाद रेडिएशन थेरेपी, पूरा इलाज अप्रैल में ख़त्म होगा और मैं उसके बारे में भी आगे लिखूंगा I

ये लेख लिखने मेरा एक ही मकसद था की यदि किसी को टाटा हॉस्पिटल या कैंसर ईलाज से सम्बंधित कोई जानकारी चाहिए हो तो वो मेरे अनुभव के आधार पर पर अपने ईलाज के बारे में कोई निर्णय ले सके और मुझे उम्मीद है की ये पोस्ट कुछ लोगों की मदद जरूर करेगा I लेकिन एक बात मैं सभी लोगों से बोलना चाहूँगा की यदि आप किसी का भी कैंसर का ईलाज करना चाहते है, और अगर आपके यहाँ अच्छा हॉस्पिटल नहीं है, तो अपना समय मत व्यर्थ कीजिये I सीधा टाटा मेमोरियल जाइए और वो लोग आपका ईलाज करेंगे I कई हॉस्पिटल भटकने के बाद मेरा एक मद है की टाटा मेमोरियल में जो लोग काम करते है वो सच में भगवान् से कम नहीं है I हो सकता है आपको मुंबई में रहने खाने की दिक्क़त होगी लेकिन जीवन से ज्यादा महत्त्वपूर्ण कुछ नहीं होता और एक बात हमसभी लोग जानते हैं की कैंसर का ईलाज जितना जल्दी शुरू हो उतने बेहतर तरह से आदमी ठीक होता है I जय हिन्द I

 

Plastic Kills

Baba

Baba

We have always been hearing about how plastic is a serious threat for our planet but not many people seem serious about the issue. Especially in India where there is plastic just everywhere, even the blessings at temples are packed in plastic. Government does all the propaganda by making laws that plastic should be prohibited but nothing is implemented. Just like anyone else living in this country I am also affected by plastic but something happened a few days ago which just blew my mind. Actually I met with someone new in my life a few weeks ago and we became really good friends. A few weeks ago I was sitting at Assi crossing and suddenly a bullock came to me.

Baba with Rahul

Baba with Rahul

He was very cute, just came to me like we had known each other for long time and put his face over my lap. I started stroking him and he seemed very relaxed by me doing it. Suddenly a few of my other friends also came and the bullock behaved very friendly with them as well. We offered him some food but he didn’t seem to be very excited about eating it. Anyways, we named him the same evening and his name was Baba. Baba was with us for almost an hour and then we went back home. We saw Baba the next day at the same place where we met yesterday.

Now we noticed something strange in Baba’s body. His stomach looked kind of bigger than his size. We tried to touch it and it seemed very tight. We decided to ask someone who does dairy business if Baba’s stomach looked strange to him as well. Luckily there is a dairy businessman right at Assi crossing. We called him and asked about what he thought about Baba’s stomach. Based on his experience he said that Baba has eaten a lot of plastic and that’s why his growth has stopped, he doesn’t feel like eating, he is not happy and something is not done soon then he might die as well.

We had also noticed some problems that Baba seemed hungry but he could not eat. His seemed bigger in age than his physical growth. All of my friends were very sad to hear it and we decided to contact some doctor. A friend of mine who owns a cow contacted the doctor and doctor said if the plastic is in Baba’s body for long time then the only possible way to take it out is an operation. Baba’s was not in good shape at all, we noticed that he was becoming more and more skinny everyday. We were still discussing what to do with Baba and suddenly we saw his dead body by the corner of the street where we used to meet.

It was very sad to see him dead and I don’t really think that we will forget him ever. But by looking at what happened with Baba, we can easily imagine what is the condition of our animals in India, the country where each and every form of life is worshiped. Talking about Varanasi, this city had a tradition of setting up big containers at every corner of the alleys which would be filled with water and food by the locals of Varanasi so that street animals could stay happy and healthy but now the situation has become really worse that our street animals are dying by eating garbage which is mixed with plastic.

I have no hope from the government and I think the only way to solve this problem would be some initiative from the people themselves. But it also seems very complicated because whatever we get is always packed in plastic and it has to go somewhere. Usually people put their garbage on the street from where it should be collected by municipality. We also don’t have any system of separating the garbage and everything is mixed. I think the best thing would be use as less plastic as possible. I don’t know when things will change but I will try my best to change myself for sure. RIP Baba.

Baba Dead

Baba Dead

Police in Varanasi

Corruption is a very big issue in India nowadays and everyone is talking about it. Even we saw the result in Delhi state assembly elections how Aam Aadmi Party changed the government only on the issue of corruption. I was also very  excited after seeing the result of Delhi elections but sometimes such things happen which make me feel like there is just no way to kill corruption in this country. It was a friend’s wedding last week in Varanasi and I went to attend it. After the wedding was finished, all of my friends returned back home but one of them parked his motorbike right in front of his home on the main street which is very usual thing for a city like Varanasi where there is no parking space available anywhere.

It was 2.30 AM and I got a call on my mobile from the same friend saying that his bike was missing. He had called me seeking help to find that bike. We went together on the street asking people if someone saw our bike and a person told us that he had seen two policemen taking our bike. We went to the nearest police station and the police officer present there said that the bike was found unattended hence it is sent to big police station which was about a kilometer away from my place. Now we went to the big police station and found everyone asleep other than one person who was standing by the entrance.

We asked him about our bike and he confirmed that our bike was there but we needed to talk with the officer. We went to the officer and found him sleeping on his chair. We were trying to wake him up but he was in super sound sleep. Finally he woke up after our several attempts. We explained him our situation and he said that we would have to go to the court the next day, pay a fine of Rs. 10,000 and only then we will get our bike. We knew it very well that he was telling a lie. We requested him so much to give us our bike back and he finally agreed on doing so after talking with the policemen who had brought our bike from the street. He asked us to go on the street looking for those policemen.

We had no idea where to find him. We requested him to kindly confirm their location by talking with them on phone but the officer just didn’t want to help us. He always felt more interested in his sleep. Anyways, we decided to go back to the same location and luckily found those police guys. We explained them our situation and they were easy. They asked us to go back to the police station and have the officer talk with them. Now we went back to the police station and again found the officer sleeping. It was a serious pain to wake him up but the mission was successful, we were able to wake him up. Now he opened a register, looked at a few pages and found he page where he had written the bike number.

Now he asked for the bike registration paper which we did not have. The papers were with the friend who owned the bike. We tried calling him but he did not respond. We went to his home, woke him up and brought him to the police station with all the papers and asked us to wait. It was crazy to see that right in front of our eyes, he closed the register and again felt asleep asking us to wait. We just did not know what to do now. Now I laughed in anger and we started talking with each other like this is our great India, this is the system…things like that. The awake policemen who was listening to us told us that- now you are laughing too much but imagine what would have happened if a thief had stolen your bike.

I just did not know what to tell him but I told him that we are laughing only because our bike is secured with the police. Anyways, after waiting for 15-20 minutes we asked the awaken police to wake up the sleeping policeman, hahaha. Finally the officer woke up, again looked at the documents and now asked for Rs. 500. We all started looking at each other and asked him why he needed Rs. 500. As we asked this question to him, he got upset, closed the register and again went asleep by asking us to go to the court the next day. We knew it very well that if we go to the court then we will have to bribe to maybe 10 people because everything is super corrupt at the courts also.

It was already 4 AM and we had no hope other than bribing him. We finally gave him Rs. 500 and got our bike back. But when I think about the behavior of that police guy, it makes me feel like our police is formed to torture us and nothing else. The policeman had no interest in helping us, he was always trying to make the situation more complicated. He was very rude, corrupt, fat, lazy, sleepy and a bigger thief than regular thieves. And I have never ever met any policeman who was better than him. I have also not ever met any person who said that he ever found a helping policeman. I think it is definitely a need of the time to dismiss entire police system and bring new fresh people with a different training.

I have also heard that our police is trained in the same way as it was trained during the British Raj time. The police was trained to fight against locals those days and they are trained the same way even today also. Our political system never had any free time to make police system better because they are also involved in looting the country. I am sure that this problem could be solved by bringing new police act and using more technology but I don’t see any hope especially for my state of Uttar Pradesh where governments come in power by doing caste and religion based politics. I have always believed that Indian police is somehow responsible for each and every problem we have in this country and if things do not change soon then I can grantee that the dream of India of becoming super power we stay only a dream forever.

Blogging

I started to blog about six years ago and I have always enjoyed it so much. In fact blogging changed my whole life: it improved my writing, my thinking, increased my social networking and got me a lot of attention. In the beginning I was just writing about anything, even my guests staying at my guesthouse but later I took it more seriously and I started writing about social issues, tourism, corruption, politics etc. But now I have been going through really strange situation ever since my blog has gotten good ranking on google. I never paid any money or put any extra efforts to get good ranking on google, it all happened automatically and I was always so happy and proud of my blog.

But ever since I have been getting good ranking on my blog, I have also started to get threats from different people who are upset with my writings. It was the first time last year when I had to remove one of the posts I wrote about a very famous TV show filming in Varanasi. I just wrote about my views on how they contacted me first, wanted to offer me the assignment but when I asked my salary they said that they did not have a fancy budget to pay my salary. Later I introduced one of my friends to the team and he agreed on working with them. When the crew arrived in Varanasi, I was surprised to see how big budget they had. And finally the producer asked my friend to get him some empty receipts so that he can fill some crazy amount and get money for it.

It was a very strange experience for me because I had already worked with so many TV channels from all over the world and none of them ever asked for such thing. I finally wrote about it and it became a serious problem for me because the producer sitting in Mumbai office found my post way before the show was ever on TV. The crew started calling me several times a day and threatened me by saying that they know so many people in Varanasi, they will go to the court against me etc… Finally under pressure of the crew and my friend who worked with them, I had to remove that post and it was a very upsetting moment for me. It took me more than a few weeks to recover from that incident.

Anyways, something similar again happened with me last week. I wrote a post about a guesthouse in Varanasi based in my person experience about how stupid the guesthouse staff and owner were in dealing with their guests. Actually one of my groups was staying at this guesthouse in the year 2011 and I got a call from the guesthouse owner the same day the group arrived saying that I should tell my group that I can’t provide any services to my group. I was surprised to hear it and I asked him if he was sure what he was talking about and he said that if I provide any boat, taxi or tours to my guests then they would kick the group out of their hotel. The owner also suggested me some stupid excuses like I can tell my guests that I don’t know anything about Varanasi.

Anyways, I informed my group about it and they also talked with the hotel owner, they had a little fight but later everything was fixed. But the guesthouse owner had threatened me by saying that I am new in the industry, I don’t know the rules, I should not try to be so smart and he will see me. I decided to write about it on my blog and same thing happened what had happened with that TV group. They started calling me, sending me emails and such things. Finally I got a call last week from a dude in my neighborhood who asked me to remove that post. I thought a lot about whether I should remove that post or not and decided to ask the group what they thought. I was surprised to see that the same group was going to stay at that same guesthouse in their next trip to India.

They said that it is convenient for them to stay at the same place because it is the closest guesthouse to the building where they have all of their business in Varanasi. I was kind of upset after hearing this but thought what can I do if even the group is not supporting me. So finally I removed that post also. All these removal of my posts and similar incidences all across India have raised a serious question about whether I should still write about corruption or not. Recently a writer was arrested and sent to jail because he made a comment on Facebook about some politician. Where is the freedom of expression and freedom of speech? At a moment I had thought to take help of Police but later realized that Police is definitely more corrupt than any the camera crew or the guesthouse owner.

I don’t know if I will ever write about corruption issues on my city level because I feel threatened by these local mafias. I have a family and I need to think about them as well. And in any case I never feel like having enough time to become part of bullshit politics. Peace.

Ranked # 1 on Tripadvisor

I got my tourist guide license four years ago and I was really confused about how I was going to work. My elder brother works for an Italian tour company, my cousin is also an Italian speaking tourist guide and I have grown up in a city where tourism is very important part of economy. Everyone was giving me different suggestions but most of them recommended me to visit some travel agencies with my CV and ask for work because this is the traditional way of getting work in tourism industry for tour guides. I was already blogging and I had developed a sense of finding right customers online so I was not really if I needed to contact travel agencies and in any case I was upset with usual travel agency’s practices like forced shopping and considering the guest only as a person whom you don’t think about meeting again in future.

I had already met with so many western people way before I got my license so I already had a sense about what western tourists want. And in any case my work as a translator or research assistant gave me the best practical knowledge possible, which a lot of guides miss, about western culture. So I decided to work in the same way I was already doing by promoting my business online. My friend Lane from Seattle helped a lot by putting up a website for my tour business. In the beginning it was not working at all and I realized that only having a website was not enough and I needed some kind of advertisement. In the beginning I used platforms like google business or craigslist but it was not really working well, I was still not getting enough work.

During the tour guide training program, we were taught that as per a survey organized by some International travel agency if a tourist is happy with the services of the travel agent then he is likely to tell about his experience to around 5 people but if he is upset then he is likely to share his experience with around 13 people which means there is no margin for error in this tourism business. I started working keeping this idea in my mind that I don’t have any rights to do anything which my guest doesn’t feel comfortable with. I was meeting with a lot of people through different online travel forums and just tried to perform my best. During this time so many people wrote about my services on online travel forums like Lonely Planet Thorn Tree and Indiamike.

Indiamike got me a lot of business and I was really happy with it. A few months ago Tripadvisor contacted me and they provided me a space on their website. Most probably some of my guests had asked Tripadvisor to list me on their website. I had heard about Tripadvisor so many times and everyone said that it was very big and so many people use it. I was really excited to be listed on Tripadvisor. Tripadvisor asked me to ask my guests to share their reviews about my services. It took me only four months and now I am ranked 1 on Varanasi page. I don’t know how it will change my business but I have noticed one thing that so many people contact me. It is a very big responsibility for me to carry on the same quality but I try my best.

I am also considering training other people so that we can work together with more than one group a day. In fact I tried it during last tourist season and it worked very well. I know that this coming tourist season will be much more busier than the last one and I need to be more prepared to handle the traffic. And keeping this idea in my mind I have already made contacts with other government approved tourist guides, have given them a sense about my style of work and they all have agreed on working with me. The biggest worry for me about hiring other guides was if they would ask my guests to go shopping with them as they usually do with their guests. I told them that I don’t do it in my business : I ask for more rather than stealing or cheating my guests.

All of the guides whom I met they also believed in me and said that if they get good salary then why they would take their guests for shopping. I have promised them extra money and just by getting this extra money they were all happy to take my guests without shopping. Everything is working very well so far and I am really excited for next tourist season. My tripadvisor page is here.